बेइमानी | Baimani – Dishonesty

Share

 बेइमानी

Hindi Poetry by Mrs Khallas on Dishonesty - Gossiping as everyday part of dishonesty

But I want to be in her good books!

Find how deeply ingrained is dishonesty in our society. Mrs Khallas presents the brighter side of this great skill

हम सबके दिल में है
थोड़ी सी बेइमानी

जो यह नहीं मानता वह अपने से ही करता है
थोड़ी सी बेइमानी

रोज मर्रा की भागती दौड़ती थकती जिन्दगी को
राहत दे जाती है
थोड़ी सी बेइमानी

बचपन में जवानी में, नानी की कहानी में
बुढ़ापे की भूल भुलैया में
करते हैं हम सभी
थोड़ी सी बेइमानी

कभी रोते को हँसाने के लिये
कभी रूठे को मनाने के लिये
कभी भूखे को खिलाने के लिये
कभी भोजन को बचाने लिये
कभी ना कभी
करते हैं हम सभी
थोड़ी सी बेइमानी

Hindi Poetry by Mrs Khallas on Dishonesty - common practice of using dishonesty to get justice in courts

I swear – Believe me!

कभी रिश्तों को बचाने के लिये
कभी रिश्तों को बढ़ाने के लिये
कभी ज्यादा जीने के लिये
कभी जल्दी मरने के लिये
करते हैं हम सभी
थोड़ी सी बेइमानी

हर देश में हर काल में
हर हाथ में हर भाल  में
जीवन के बुने हुए हर जाल में
किस्मत के हर कमाल में
लिख ली है हम सभी ने
थोड़ी सी बेइमानी

और आखिर में
ईमान की कसम खानी पड़ती है
जब मन में होती है
थोड़ी सी बेइमानी

 

Poetries-by-Mr-Khallas-and-his-family-and-friends-enforcing-creativity-is-fun-thumbnail poems-by-Mrs-Khallas-thumbnail  Hindi-poetry-on-dishonesty-by-mrs-khallas-thumbnail Hindi-poetry-on-memories-by-Mrs-Khallas-thumbnail hindi-poetry-on-relationship-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poem-on-Pain-by-mrs-khallas-Thumbnail hindi-poem-on-ma-or-mother-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-advice-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-god-or-Khuda-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-life-or-zindgi-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-confusion-by-mrs-khallas-thumbnail

Poetry , Mrs Khallasबेइमानी यादेंरिश्तेदर्दमाँ,  सलाह,  ईश्वर,  जिन्दगी,  उलझन 

 

 

 

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *