शेर Vs शमशेर | Lion Vs Lame

Share

शेर Vs शमशेर

I seriously lacked creativity and hence envied Sher-o-Shayari which resulted into twisting of Sher and calling it Shamsher.  Here are some examples. Of course I paid the cost of it and advise you to do it on your own risk. On left side are the original Sher while on the right side is the result of my twisted mentality.

दिल की हालत की तरफ किसकी नज़र जाती है
इश्क़ की उम्र तमन्ना में गुज़र जाती है

दिल की हालत की तरफ किसकी नज़र जाती है
ज़िस्म की तम्मना में उम्र गुजर जाती है

हममें ये बुराई है कि दिल में नहीं रखते
लोगों में ये खूबी है कि मुँह पर नहीं कहते

लोगों में ये खूबी है कि मुँह पर नहीं कहते
हममें ये बुराई है कि दिल में नहीं रखते

मुहब्बत का अन्जाम मुहब्बत वालों से पूछिये
कितनी बार दम निकला दम वालों से पूछिये

क़त्ल-ए-आम का उल्लास कातिलों से पूछिए
महफ़िल में मरने वालों का हाल-ओ-चाल तो पूछिए

हम खुदा के कभी कायल ही न थे
उनको देखा तो खुदा याद आया

हम खुदा के कभी कायल ही न थे
उनको देखा तो कूवते लाहौल विला आया

हया से सर झुका लेना, अदा से मुस्करा देना
हसीनों को भी कितना आसान है बिजली गिरा देना

हाथ से सर खुजा लेना फिर अट्टाहस लगा देना
हम मर्दों को भी आता है वक्त गवां देना

आशिक मरते नहीं दफनाए जाते हैं
कब्र खोद कर देखो इंतजार करते मिलेंगे

इश्क मरता नहीं छुपाया जाता है
दिल टटोल कर देखो घाव खुल जाया करता है

आये थे हंसते खेलते मयखाने में फ़िराक
जब पी चुके तो सजीदा हो गये

आये सब हंसते खेलते महफ़िल में बेहिसाब
जब पी चुके अथाह तो बेवफा हो गये

हर कहर बुरी होती है हर उम्र बुरी होती है
हुस्न कहां तक रहे बचकर यारों कि हर नज़र बुरी होती है

न इनकी कही बुरी होती है न उनकी कही बुरी होती है
कहाँ तक मौन रहें, अपनी तो हर बात खंजर होती है

 

Poetries by Mr Khallas and his family and friends enforcing creativity is fun - thumbnail Mr khallas urf Atulanand urf Atul Johari the creator of The Khallas Way propogating creativity is fun - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas by twisting Sher-o-Shayari and calling it शेर Vs शमशेर | Lion Vs Lame - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas in the form of Sher-o-Shayari on Motivation - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas in the form of Sher-o-Shayari on इश्क |Ishk – Love - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas in the form of Sher-o-Shayari on नोंक झोंक |Nok Jhok – Argument - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas in the form of Sher-o-Shayari on वार्तालाप | Vartalap – Discussion - Thumbnail  Sher-o-Shayar by Mr Khallas on serious issues unlike his character hence यूँ ही | Yun Hi – Why - Thumbnail Poetry by Mr Khallas on a very serious note unlike his usual writing style hence ये क्या | Ye Kya – What - Thumbnail Long Poetry by Mr Khallas to fullfil his life time dream hence -   कविता | Kavita – Life time dream - Thumbnail

 

Poetryखल्लास,  शेर Vs शमशेरखल्लास और Motivation,  खल्लास और इश्क,  Mr & Mrs खल्लास – नोंक झोंक,  वार्तालाप,  खल्लास – यूँ ही,  खल्लास – ये क्या,  एक कविता का प्रयास

 

 

 

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *