नोंक झोंक |Nok Jhok – Argument

Share

नोंक झोंक

Sarcasm by Mr Khallas in the form of Sher-o-Shayari on नोंक झोंक |Nok Jhok – Argument

But you have not moved a bit!!

Enjoy two people from diametrically opposite background locked together in an argument.

हम तो चलते चलते थक गये
वो बोले displacement zero है

हम तो पसीने पसीने हो गये
वो बोले work done zero है

हम विज्ञान से और वे कला से स्नातक हैं
तभी तो हम सूत्र और वे सूत्रधारक हैं

ज्ञानी ने विज्ञानी से कहाभविश्य के लिए भूत के पीछे क्यूँ पड़े हो

ज्ञानी ने विज्ञानी से कहा
अर्थ की आड़ में अनर्थ क्यूँ करते हो

A scientist and saint is locked in an argument | नोंक झोंक about the real meaning of progress in this poetry/shayari by Mr Khallas

Finally! Formula of success!!

विज्ञान कि खोज में हम जितना deep जाते गये
ज्ञान से खल्लास जिन्दगी को दूर पाते गये

**********

लगता है होने लगा भरोसा अब उनपर
न चलता है अब कोई जोर जो उनपर

शाम थी, तन्हाई थी
बड़ी मेहनत कि कमाई थी

बैठ जाते हैं वो, जो सज संवर कर; सबेरे से
थक के गिर जाते हैं खल्लास घर और बाहर के थपेड़ों से

चश्मे दीद हुए वो जब, बड़े बदनसीब हुए हम तबमहफिले जाना हो रहे थे, तुरत रवाना हुए हम तब

बड़े खुलूस से फ़िज़ूल करारते हैं वो
फिर प्यार से बुला के आरती उतारते हैं वो

Mrs Khallas sending away Mr Khallas from her grave as he could never appreciate her during her life time and kept arguing with her

Time to realise – Get on with your life now.

शाम आये तो पूरी आये
नहीं तो शामते शाम ही क्यों आये

एक खुलासा हुआ एक खुलासा किया
एक खुलासा हुआ एक खुलासा किया
एक खुलासा हुआ एक खुलासा किया
एक दुबारा हुआ एक तिबारा किया

दस्तक दी क़फ़स पर जो उनके तो ये आवाज आयी
जियो खल्लास जियो, अब यूँ ही घिस घिस के

 

 

 

 

Poetries by Mr Khallas and his family and friends enforcing creativity is fun - thumbnail Mr khallas urf Atulanand urf Atul Johari the creator of The Khallas Way propogating creativity is fun - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas by twisting Sher-o-Shayari and calling it शेर Vs शमशेर | Lion Vs Lame - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas in the form of Sher-o-Shayari on Motivation - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas in the form of Sher-o-Shayari on इश्क |Ishk – Love - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas in the form of Sher-o-Shayari on नोंक झोंक |Nok Jhok – Argument - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas in the form of Sher-o-Shayari on वार्तालाप | Vartalap – Discussion - Thumbnail  Sher-o-Shayar by Mr Khallas on serious issues unlike his character hence यूँ ही | Yun Hi – Why - Thumbnail Poetry by Mr Khallas on a very serious note unlike his usual writing style hence ये क्या | Ye Kya – What - Thumbnail Long Poetry by Mr Khallas to fullfil his life time dream hence -   कविता | Kavita – Life time dream - Thumbnail

 

Poetryखल्लास,  शेर Vs शमशेरखल्लास और Motivation,  खल्लास और इश्क,  Mr & Mrs खल्लास – नोंक झोंक,  वार्तालाप,  खल्लास – यूँ ही,  खल्लास – ये क्या,  एक कविता का प्रयास

 

 

 

 

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *