कविता | Kavita – Life time dream

Share

एक कविता का प्रयास

Long Poetry by Mr Khallas to fulfill his life time dream hence -   कविता | Kavita – Life time dream

For some, learning never ends.

Never give up on your dreams. Some dreams may require more than one life time.Enjoy the result of a desperate effort by Mr Khallas to create a sensible poetry. A life time dream remains a distant dream.

चंद शब्दों को समेटकर देखा
व्याकरड़ की दहलीज़ से निकलकर देखा
पिछले कुछ पन्ने पलटकर देखा
गानों को सपाट गाकर देखा
उनसे परामर्श भी करके देखा

Long Poetry by Mr Khallas to fulfill his life time dream but Even the hard work resulted in vain

For some, hard work pays dividend.

दीर्घशंका में अंतरध्यान बैठ कर देखा
Pen और paper बदलकर देखा
चाय के चार कप सटक कर देखा
Internet पर surf करके देखा
बारिश में भीगकर देखा
प्रकृति के विभिन्न रूपों से गुजरकर देखा
थक हारकर औंधे गिरकर देखा
पुनः घटनाक्रम को उचित क्रम में सजोकर देखा
दिन को छोटा कर के भी देखा
तख्खलुस पर तख्खलुस बदल कर देखा
पसीने की जगह ढाई सौ ग्राम तेल निकालकर देखा
बेघर बालकों की गली से निकलकर देखा
निराला की पत्थर तोड़ती श्रमिका को देखा
समय के प्रवाह में बहकर देखा
महफिल में सुरा की इन्तहा कर के देखा

Even extreme yoga did not help Mr Khalls in creating a long poetry hence fulfilling his life time dream

For some, Yoga opens up mysteries.

ऐन मौके तक भाव भंगिमा रोक के देखा
हंसना तो दूर मुस्कराना भी छोड़ कर देखा
शहर से दूर एक मशहूर शिला पर मत्था टेककर देखा
नितान्त शांत और महफूज़ जगह पर रात बिता कर देखा
अल्लाह और राम में भेद मिटाकर देखा
नत्थू मोची को गले लगाकर देखा
घर के हर कमरे का नक्शा बदल कर देखा
different colour के bulbs बदलकर देखा
दूर से आती लोकगीत की तानों पर कान लगाकर देखा
extreme तो देखिये कि – पिताश्री की आज्ञा का पालन कर के देखा
local और overseas कलाकारों की महफिल में जाकर देखा
अपना nature बदल दोस्तों की बातें सुनकर देखा
भरोसेमंद लोगों को upset कर के देखा
अपनी ही car से पचास किलोमीटर दूर बसे दोस्त के घर जाकर देखा
दोनों संतानों को सौ dollars each देकर देखा
cartoon network की जगह CNN लगाकर देखा

Mr Khallas is struggling to find balance among his hobbies in search of creativity is fun - painting, writing, music,  cooking, karate and so on

For some, life is all about balancing.

Karate का काता reverse order में करके देखा
Treadmill पर भी उलटे चलकर देखा
तीन साल पहले लिखे computer programme को decode करके देखा
driver की जगह pillion बनकर देखा
कभी दाड़ी बढ़ाकर तो कभी मूंछ मुढ़ाकर देखा
दिन में तीन बार नेथी की क्रिया करके देखा
बचपन की गलतियों को दोहराकर देखा
हनुमान चालीसा और सुंदरकांड का अभ्यास करके देखा
अखण्ड रामायण का पाठ करके भी देखा
peak period में international travel करके देखा
कभी Singapore तो कभी Tiger Airlines से चलकर देखा
भिन्डी की सब्जी में पानी डालकर देखा
Noodles को Pressure Cooker में उबालकर देखा

Mr Khallas just can not have a bug free mind to get the right flow for his long poetry to fulfill his life time dream

For some, life is all about finding bugs.

सुदूर रिश्तेदार की शादी में Ice-cream के पकौड़े खाकर देखा
मंगल गृह पर Challenger की landing का live telecast भी देखा
महाभारत और रामायण का सीरियल कई बार देखा
Hollywood और Bollywood का समन्वय कर देखा
YouTube का गहन अध्यन कर के देखा
चंद उम्दा sites का registration fill करके देखा
Creative writing का छः मास का course करके देखा
Breakfast की जगह Lunch खाकर देखा
सरहद पर बैठे जवान की माँ से मिलकर देखा
होश और बेहोशी की चरमसीमा तक जाकर देखा
याद रह गये सपनों पर गौर करके देखा

Mr Khallas gets lost among myths and facts. Nothing is helping him to create a great poetry and fulfill his life time dream

For some, Walking through under the camel cures baldness!!

उनके कहने पर ऊंट के नीचे से निकलकर देखा
वैष्ड़ों देवी से कामख्या देवी तक यात्रा करके देखा
रात की बची रोटी का पराठा बनाकर देखा
diabetic होते हुए भी जलेबी और समौसे खाकर देखा
Hospital और Olympic में voluntary work करके देखा
न चाहते हुए भी महीने भर vegetarian रह कर देखा
पत्नी की आज्ञा की अवहेलना करके देखा
एक रोज तो हर रहगुजर को मुस्कराकर hello करके देखा
दही को लटकाकर श्रीखंड बनाकर देखा
ज्ञानी और अज्ञानी के संवाद में सम्लित होकर देखा
उनकी तिरछी नजरों से बचकर भी देखा

Even healthy eating and lifestyle is not a source for a great poetry for Mr Khallas

For some, milk is complete food.

बच्चों की नानी को पूरे साल Melbourne बुलाकर देखा
नाना की आध्यात्मिक चर्चाओं का खुलासा करके देखा
family के कई नये पुराने photographs निकालकर देखा
नई बिहाई बछिआ वाले ढूध की मिठाई खाकर देखा
संगीत में सुर और लय में ताल मिलाकर देखा
GI कि तालिका में 100 से 0 तक जाकर देखा
ढ़ाई हफ्ता बिना नहाए रहकर देखा
Sector J से Sector L में shift होकर देखा
साली और सलहजों के साथ पूरी तल कर देखा
सालों के साथ सुट्टा लगाकर भी देखा
Fish oil, Multi Vitamin और Minerals का सेवन बढ़ाकर देखा

Singing has purified the heart of Mr Khallas but that is also not enough to bring out creativity in form of कविता | Kavita – Life time dream

For some, singing is divine.

मराठी बाउ के साथ चावल में दूध व नमक डालकर देखा
चाय में चीनी व नमक साथ डालकर देखा
बिना भिगोये काबिली चने उबालकर देखा
juice निकली गाजरों का हलवा बनाकर देखा
International Call पर उनसे पूछकर पोहा बनाकर देखा
परिवार जनों में फूट डालकर भी देखा
फिर कुछ जानलेवा दुश्मनों में सुलह कराकर देखा
लोई को स्थिर व् स्वतः को परिक्रमित कर
इकाई नहीं दहाई में रोटी बेलकर देखा
पचास की उम्र में कक्छा पांच की books का अध्यन करके देखा
साथ ही management की top 50 books का अध्यन भी करके देखा
teenager की तरह coffee shop में घंटों बैठकर देखा
Malaysian और Thai Restaurants की विभ्भिन dishes में डूबकर देखा
किन्तु अभी तक कविता का स्थाई बनते भी न दिखा

Can Mr Khallas create a great poem or कविता | Kavita and achieve his Life time dream in this life?

For some, journey does not end here.

अंततः हर प्रयास से असफल और
ज़िंदगी से बेदखल हो
उस रात अनायास
सफेद चादर को सर से हटाकर
थोड़ा सा मुस्करा कर
कविता ने धीरे से कहा
अरे ये ही तो है खल्लास !!

 

 

Poetries by Mr Khallas and his family and friends enforcing creativity is fun - thumbnail Mr khallas urf Atulanand urf Atul Johari the creator of The Khallas Way propogating creativity is fun - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas by twisting Sher-o-Shayari and calling it शेर Vs शमशेर | Lion Vs Lame - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas in the form of Sher-o-Shayari on Motivation - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas in the form of Sher-o-Shayari on इश्क |Ishk – Love - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas in the form of Sher-o-Shayari on नोंक झोंक |Nok Jhok – Argument - Thumbnail Sarcasm by Mr Khallas in the form of Sher-o-Shayari on वार्तालाप | Vartalap – Discussion - Thumbnail  Sher-o-Shayar by Mr Khallas on serious issues unlike his character hence यूँ ही | Yun Hi – Why - Thumbnail Poetry by Mr Khallas on a very serious note unlike his usual writing style hence ये क्या | Ye Kya – What - Thumbnail Long Poetry by Mr Khallas to fullfil his life time dream hence -   कविता | Kavita – Life time dream - Thumbnail

 

Poetryखल्लास,  शेर Vs शमशेरखल्लास और Motivation,  खल्लास और इश्क,  Mr & Mrs खल्लास – नोंक झोंक,  वार्तालाप,  खल्लास – यूँ ही,  खल्लास – ये क्या,  एक कविता का प्रयास

 

 

 

Share

2 thoughts on “कविता | Kavita – Life time dream

  1. खल्लास करे काहे बकवास
    सब कुछ तो है तेरे पास
    साथी भी मिला ये खास
    बच्चों ने भी नहीं किया निराश
    फिर क्यों कहे अपने को खल्लास
    तुझे न रहेगा खालीपन का अहसास
    सुर और ताल का ज्ञान है तेरे पास
    जरूरतों को पूरा करने के लीये धन भी तेरे पास
    और है जीवन धारा में जी भर के जीने की आस
    खाली नाम का ही बस है तू खल्लास

    • समझते रहे यदि यूँ ही आप
      खल्लास को class
      कहीं आप का भी न हो जाये
      यही हाल !!
      My best wishes for your Jeevan Dhara Project

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *