खुदा | Khuda – God

Share

 खुदा

Hindi-poems-on-god-or-Khuda-by-mrs-khallas-is-god-real

Are we at your mercy- Oh God!

I do not know if there is God or not but one thing I am sure that Mrs Khallas is very cross with God. Let me know if you can figure out why?

इतने करो धमाके कि
जाग जाये खुदा
सदियां ही बीत गयीं उसको आये इधर
इतनी करो तबाही कि
दौड़ा आये खुदा
दुःख से पिघलती नहीं
आहों पर नज़र करता नहीं
इतनी करो गुस्ताखी कि
चैन न पाये खुदा
जितनी दी है उसने मोहलत
उतनी ही करो तुम इबादत
इतने उलझाओ ताने बाने कि
जन्मों का हिसाब भूल जाये खुदा

*************

खुदा से थोड़ा बेतक्लुफ़ हो जाये ये दिल
तो कुछ और बेबाकियाँ कर जाये ये दिल
कतरा कतरा बहती जिंदगी को
दरिया ए बेसाहिल कर जाये ये दिल

**************

पत्थर के परमेश्वर

स्वर्ग नहीं है कहीं धरा पे
ढूढ़ो इसको अपने मन में
पत्थर के परमेश्वर बाहर
ईश्वर है तेरे ही मन में
दुनिया के इस मेले में
रिश्तों के झमेले में
राग रंग के रेले में
न देखो इसको वन उपवन में
ईश्वर है तेरे ही मन में
मंदिर मस्जिद खाली पड़े हैं
गुरूद्वारे सुनसान पड़े हैं
गिरजाघर वीरान खड़े हैं
इन्सान है किसी अजब उलझन में
पत्थर के परमेश्वर बाहर
ईश्वर है तेरे ही मन में

 

Poetries-by-Mr-Khallas-and-his-family-and-friends-enforcing-creativity-is-fun-thumbnail poems-by-Mrs-Khallas-thumbnail  Hindi-poetry-on-dishonesty-by-mrs-khallas-thumbnail Hindi-poetry-on-memories-by-Mrs-Khallas-thumbnail hindi-poetry-on-relationship-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poem-on-Pain-by-mrs-khallas-Thumbnail hindi-poem-on-ma-or-mother-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-advice-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-god-or-Khuda-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-life-or-zindgi-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-confusion-by-mrs-khallas-thumbnail

Poetry , Mrs Khallasबेइमानी यादेंरिश्तेदर्दमाँ,  सलाह,  ईश्वर,  जिन्दगी,  उलझन 

 

 

 

Share

जिन्दगी | Zindgi – Life

Share

जिन्दगी

hindi-poems-on-life-or-zindgi-by-mrs-khallas-first-sign-of-life-hunger

New day new challenge.

If there is birth, there is death but there is something very important between the two and that is Life. How much control do we have on our life?  How much we can discover in our life. See what is more important for Mrs Khallas – Goal or Journey.

खिल कर मुरझाने का नाम है जिन्दगी
ज़माने के लिये फनां हो जाने का नाम है जिन्दगी

इस जहां के गहन अंधेरों में
खुद को जलाने का नाम है जिन्दगी

इस बहते हुए गम के दरिया में
अश्कों को पी जाने का नाम है जिन्दगी

जमाने की इस झूठी हंसी के साथ
दिल को तबाह कर मुस्कराने का नाम है जिन्दगी

गम के साज पर छेड़ जिन्दगी के नगमें
आहों के स्वर में गुनगुनाने का नाम है जिन्दगी

***************

जीस्त के दामन में मिली
रंगों को पनाह
तमाम खुशबुओं से महका रहा जहां
नींद फिर रात भर क्यों नहीं आती

जाने पहचाने रास्तों का था ये सफर
हर मोड़ से मुड़ कर भी पहुंचे थे मंजिल पर
नींद फिर रात भर क्यों नहीं आती

ख्वाबों और ख्वाहिशों की उम्र दराज रही
दिलों से होकर जिन्दगी की राह रही
नींद फिर रात भर क्यों नहीं आती

क्यूं है किसी अंत का इंतजार सा हमें
मौत का तो एक दिन तय है
नींद फिर रात भर क्यों नहीं आती

नींद फिर रात भर क्यों नहीं आती

*************

रोज सवेरे मन के आंगन को चमकाती
एक धूप सी फ़ैल जाती है
फिर धीरे धीरे जिन्दगी की आलस दोपहर
सी वहीं जम जाती है
शाम होने तक वो ठंडी सी धूप
कल आने के लिये फिर चली जाती है
यूं ही सुबह दोपहर शाम फिर सुबह में
सारी उम्र बीत जाती है

 

Poetries-by-Mr-Khallas-and-his-family-and-friends-enforcing-creativity-is-fun-thumbnail Hindi poetry and Sher-o-Shayari by Mrs Khallas-thumbnail  Hindi-poetry-on-dishonesty-by-mrs-khallas-thumbnail Hindi-poetry-on-memories-by-Mrs-Khallas-thumbnail hindi-poetry-on-relationship-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poem-on-Pain-by-mrs-khallas-Thumbnail hindi-poem-on-ma-or-mother-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-advice-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-god-or-Khuda-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-life-or-zindgi-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-confusion-by-mrs-khallas-thumbnail

Poetry , Mrs Khallasबेइमानी यादेंरिश्तेदर्दमाँ,  सलाह,  ईश्वर,  जिन्दगी,  उलझन 

 

 

 

Share

उलझन | Uljhan – Confusion

Share

उलझन

We strive for stability in our life but change is the fundamental principle of nature. Confusion prevails while we struggle for clarity. Is it why Mrs Khallas has raised more questions than we have the answers?

कौन हो तुम
कैसे जानूं, कैसे पहचानूं
कभी अंधेरे में रोशनी बन जाते
कभी रोशनी में राह दिखाते
कभी राह भर साथ चलते
और कभी मंजिल बन जाते

कौन हो तुम
कैसे जानूं, कैसे पहचानूं
कभी माँ बन प्यार लुटाते
कभी पिता बन परवान चढ़ाते
कभी साथी बन साथ निभाते
बचपन बन कभी लौट आते

कौन हो तुम
कैसे जानूं, कैसे पहचानूं
कभी सूर्य बन तुम झुलसाते
कभी चांद बन ठंडक लाते
कभी बादल बन नेह बरसाते
पवन बन कभी जीवन दे जाते

कौन हो तुम
कैसे जानूं, कैसे पहचानूं
कभी प्यार में कभी घृणां  में
नभ में कभी कभी धरा में
जल में थल में चल अचल में
आती जाती सांसों में तुम
फिर भी कैसे जानूं, कैसे पहचानूं
कौन हो तुम

***************

तन्हाई

यूं ही तन्हाई में हम तुमको सदा देते हैं
नाम लिखते हैं तेरा, लिखकर मिटा देते हैं
यूं ही तन्हाई में हम तुमको सदा देते हैं

कहीं से आ जाओ रहनुमां हो तुम
तुम्हें नहीं ये इल्म हम बता देते हैं
यूं ही तन्हाई में हम तुमको सदा देते हैं

दिल के घायल होने का सबब नहीं मालूम
कहां घायल हुआ इसका पता देते हैं
यूं ही तन्हाई में हम तुमको सदा देते हैं

जहां छोड़ा था जिन्दगी का दामन
उस निशाँ को हम खुद ही मिटा देते है
यूं ही तन्हाई में हम तुमको सदा देते हैं

 

Poetries-by-Mr-Khallas-and-his-family-and-friends-enforcing-creativity-is-fun-thumbnail poems-by-Mrs-Khallas-thumbnail  Hindi-poetry-on-dishonesty-by-mrs-khallas-thumbnail Hindi-poetry-on-memories-by-Mrs-Khallas-thumbnail hindi-poetry-on-relationship-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poem-on-Pain-by-mrs-khallas-Thumbnail hindi-poem-on-ma-or-mother-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-advice-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-god-or-Khuda-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-life-or-zindgi-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-confusion-by-mrs-khallas-thumbnail

Poetry , Mrs Khallasबेइमानी यादेंरिश्तेदर्दमाँ,  सलाह,  ईश्वर,  जिन्दगी,  उलझन 

 

 

 

Share

सलाह | Salah – Advice

Share

सलाह

Hindi-poems-on-advice-by-mrs-khallas-god-can-only-guide-we-need-to-step-in

Let us sweeten the ocean!!

Certain tasks can not be accomplished in a single lifetime or if completed need regular care and attention by others. This is when we need to pass on advice and believe me Mrs Khallas is good at this.

चलो समुंदर को मीठा बनायें
हसीं की मीठी फुहारों से
गमों का नमक चुरायें
चलो समुंदर को मीठा बनायें

वैसे तो जिंदगी मानती ही नहीं
लिपटती है उन अंधेरों से
जहां रोशनी आती ही नहीं
ऐसे अंधेरों के लिए
कुछ जुगनू ले आयें
हसीं की मीठी फुहारों से
गमों का नमक चुरायें
चलो समुंदर को मीठा बनायें

बेबाक हवाओं को दिशा दे दें
भटकते हुए बादलों को राहें दे दें
सूरज की आग से
कुछ दीपक जलायें
चलो समुंदर को मीठा बनायें

थोड़ा सा प्यार विश्वास और साहस लायें
थोड़ी सी नर्म ज़मीन और मजबूत आसमां बनायें
जरा जरा सा अपना
ईश्वर मिलायें
और फिर एक खूबसूरत दुनिया बनायें
चलो समुंदर को मीठा बनायें

*************

Hindi-poetry-on-advice-by-mrs-khallas-know-your-potential-by-taking-a-deep-dive

Take a deep dive to know your potential

यूं ही पटक के सिर साहिलों पे
एक उम्र बीत जायेगी
लहरों में उतर कर देख
सारी तृष्णा मिट जायेगी
तलाश कर तू बी भी अपना एक सागर
लहरों की धड़कनों से चुरा एक एक स्वर
नसीब के भरोसे बैठा रहा तो
कई उम्रें बीत जायेंगी
जिंदगी से बड़ी होगी गर तेरी प्यास
नित नयी मंजिलें होंगी तेरे पास
कई बेबाक लहरें तेरे कदमों में लिपट जायेँगी
आसमां के साथ साथ रंग बदलते सागर सा बन
चाँद छूने की ललक में गिरते उठते सागर सा बन
तब जीवन के इस भवसागर में
चांदनी खुद ही सिमट जायेगी

**************

कोई भी मीनार नहीं गाती
अपनी बुलंदी का तराना
क्योंकि वह जानती है कि
कतरा कतरा मिट्टी से ही
बना है उसका फ़साना

 

Poetries-by-Mr-Khallas-and-his-family-and-friends-enforcing-creativity-is-fun-thumbnail poems-by-Mrs-Khallas-thumbnail  Hindi-poetry-on-dishonesty-by-mrs-khallas-thumbnail Hindi-poetry-on-memories-by-Mrs-Khallas-thumbnail hindi-poetry-on-relationship-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poem-on-Pain-by-mrs-khallas-Thumbnail hindi-poem-on-ma-or-mother-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-advice-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-god-or-Khuda-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-life-or-zindgi-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-confusion-by-mrs-khallas-thumbnail

Poetry , Mrs Khallasबेइमानी यादेंरिश्तेदर्दमाँ,  सलाह,  ईश्वर,  जिन्दगी,  उलझन 

 

 

 

Share

माँ | Ma – Mother

Share

माँ

hindi-poetry-on-ma-or-mother-by-mrs-khallas-they-say-i-look-like-my-mother

Ma – Contained in one sound but still beyond any definition!!

Mother is the source of life and all other relations. For Mrs Khallas Ma and Ohm have same meaning – the symbol of ultimate power, the origin of whole universe.

माँ हो या दुआ तुम

हर रात कि एक सुबह तुम
हर ख्वाब की ताबीर तुम
हर जान की जागीर तुम

खुदा का एहसास तुम
खुद होने का आभास तुम

कोशिशों में सहारे सी तुम
अंधेरों में शरारे सी तुम

रास्तों की मंजिल हो तुम
समुंदरों की साहिल हो तुम
कश्ती की पतवार हो तुम
पंखो की परवाज हो तुम

अश्कों के लिये आँचल हो तुम
प्यार का सम्बल हो तुम

ॐ हो, ओंकार हो, ईश्वर हो, संसार हो

पर मेरे लिये तुम तो
बस एक माँ हो

*****************

hindi-poem-on-ma-or-mother-by-mrs-khallas-ma-being-ultimate-symbol-of-power-om

Om = The symbol of Ultimate Power = Ma

माँ = ॐ
माँ,
एक सहारा, एक आशा
एक आदत, एक किस्मत
एक जरुरत, एक नियति
एक आधार, एक संसार

लेकिन कब तक?
जब तक –

हम चल नहीं पाते
बोल नहीं पाते
लड़ नहीं पाते
उड़ नहीं पाते

उसके बाद
माँ ??

 

 

Poetries-by-Mr-Khallas-and-his-family-and-friends-enforcing-creativity-is-fun-thumbnail poems-by-Mrs-Khallas-thumbnail  Hindi-poetry-on-dishonesty-by-mrs-khallas-thumbnail Hindi-poetry-on-memories-by-Mrs-Khallas-thumbnail hindi-poetry-on-relationship-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poem-on-Pain-by-mrs-khallas-Thumbnail hindi-poem-on-ma-or-mother-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-advice-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-god-or-Khuda-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-life-or-zindgi-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-confusion-by-mrs-khallas-thumbnail

Poetry , Mrs Khallasबेइमानी यादेंरिश्तेदर्दमाँ,  सलाह,  ईश्वर,  जिन्दगी,  उलझन 

 

 

 

Share

दर्द | Dard – Pain

Share

दर्द

hindi-poem-on-Pain-by-mrs-khallas-may-god-give-face-to-pain

I wish, Pain had a face!

Pain is essential for survival but certainly it is not the best gift, then why we value this unwanted gift so much and keep it close to our heart.  In this collection of poetries Mrs Khallas describes various forms of pain.

दर्द को कोई सूरत दे दे ऐ मालिक
या फिर सारे दर्द मिटा दे ऐ मालिक

कुछ दर्द तूने बांटे कुछ हमने बनाये हैं
लेकिन यह सारे अपने ही साये हैं
इनमें थोड़ी राहत दे दे ऐ मालिक
या फिर सारे दर्द मिटा दे ऐ मालिक

जिन्दगी के हर प्रहर में मौत रखती है नजर
हर रोशनी खड़ी है अँधेरे की सरहद पर
जिन्दगी पर अपनी नजर का पहरा बिठा दे
या फिर सारे दर्द मिटा दे ऐ मालिक

तू जो आसमां पर बैठ समझ पाते दर्द का आलम
इन्सान के दुख दर्द से भीगता तुम्हारा भी दामन
मौत को भी तू जीने की चाहत दे दे ऐ मालिक
या फिर सारे दर्द मिटा दे ऐ मालिक

अंधेरे

hindi-poem-on-Pain-by-mrs-khallas-darkness-will-enlighten-your-soul

Learn to be friend with darkness.

ऐ मन अंधेरों से दोस्ती कर ले
न डर इनसे, इन्हें अपने मन में भर ले
अभी सासों में है दम
चलने दे रोशनी के सितम
थकने दे तू रोशनी को
फिर अंधेरा ही होगा हमदम
तो क्या डरना इनसे, दोस्ती कर ले
इन्हें अपने मन में भर ले

चमकती रोशनी एक धोखा है
और अंधेरे को इसी ने रोका है
तेरे ही साये को पैरों में फेंक
तुझसे ही कुचलवा के देखा है
इसलिए अंधेरों से दोस्ती कर ले
न डर इनसे, इन्हें अपने मन में भर ले

तलाश कर अपने गुमशुदा अंधेरे
यही सच्चे मीत हैं तेरे
बेवफा रोशनी रह जाएगी यहीं
यही साथ जायेंगे तेरे
इसलिए न डर इनसे, इन्हें अपने मन में भर ले
ऐ मन अंधेरों से दोस्ती कर ले

 

Poetries-by-Mr-Khallas-and-his-family-and-friends-enforcing-creativity-is-fun-thumbnail poems-by-Mrs-Khallas-thumbnail  Hindi-poetry-on-dishonesty-by-mrs-khallas-thumbnail Hindi-poetry-on-memories-by-Mrs-Khallas-thumbnail hindi-poetry-on-relationship-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poem-on-Pain-by-mrs-khallas-Thumbnail hindi-poem-on-ma-or-mother-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-advice-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-god-or-Khuda-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-life-or-zindgi-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-confusion-by-mrs-khallas-thumbnail

Poetry , Mrs Khallasबेइमानी यादेंरिश्तेदर्दमाँ,  सलाह,  ईश्वर,  जिन्दगी,  उलझन 

 

 

 

 

Share

रिश्ते | Rishte – Relationship

Share

रिश्ते

hindi-poetry-on-relationship-by-mrs-khallas-planets-have-life-time-bonding

Relationship – Ever changing still together

Are we what we are or how we are related to each other? We may like to live for ourself but we would rather die for relationship.   Mrs Khallas has spent most of her ink in defining ever evolving nature of relationship among human beings and beyond.

रिश्ते केवल एक शब्द
या इसका भी है कोई अर्थ
जन्म के साथ जुड़ जाते हैं
उम्र के साथ बढ़ जाते हैं

कभी डगमगाते हुए
कभी संभलते हुए
हर उम्र के अलग रिश्ते
या हर रिश्ते की एक निर्धारित उम्र

कुछ सुलझे एक दायरे में कैद
कुछ उलझे से पर हर कैद से आजाद
कुछ जीवन मिथ्या से रिश्ते
कुछ मौत से सच्चे रिश्ते

Hindi poetry on relationship by Mrs Khallas - confused with complexities of relationship

What is so confusing about relationship?

कभी प्यार से प्यारे
कभी घृणा से घृणित रिश्ते
कभी सपने से रेशमी
कभी हकीकत से कटीले रिश्ते

कुछ मृग तृष्णा से लगते
तो कुछ रग रग में समाये रिश्ते
कभी पलकों के ऊपर बोझ बने
तो कभी होठों पर मुस्कराते रिश्ते

मन को बहलाने को ये बदलते रिश्ते
या शब्दों की भीड़ में
केवल एक शब्द से रिश्ते

********************

Hindi poetry on relationship by Mrs Khallas - attraction of moon reminds my love

Who is obsessed with whom?

पता नहीं किसकी जुस्तजू में
गिरा जा रहा था चाँद
शायद जमीं के प्यार पर
निसार हो रहा था चाँद
कुछ पीला सा कुछ कटा सा
कहीं होश खो रहा था चाँद
हाथों की लकीरों को
जब मिल कर देखा
तो कुछ और पास लगा चाँद
कभी चाँद छूने की बेकार सी ललक थी
आज खुद ही फिसलता आ रहा चाँद

 

 

Poetries-by-Mr-Khallas-and-his-family-and-friends-enforcing-creativity-is-fun-thumbnail poems-by-Mrs-Khallas-thumbnail  Hindi-poetry-on-dishonesty-by-mrs-khallas-thumbnail Hindi-poetry-on-memories-by-Mrs-Khallas-thumbnail hindi-poetry-on-relationship-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poem-on-Pain-by-mrs-khallas-Thumbnail hindi-poem-on-ma-or-mother-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-advice-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-god-or-Khuda-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-life-or-zindgi-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-confusion-by-mrs-khallas-thumbnail

Poetry , Mrs Khallasबेइमानी यादेंरिश्तेदर्दमाँ,  सलाह,  ईश्वर,  जिन्दगी,  उलझन 

 

 

 

Share

यादें | Yaden – Memories

Share

यादें

Hindi poetry on memories by MrsKhallas-remembering those left behind

I have not left you behind!

For some people all is left are memories. It is certainly a source of strength and hope. See what Mrs Khallas havs to say about memories.

ज़िन्दगी में सासों की तरह
बसी हुई यादें
दिल में धड़कन की तरह
धड़कती हुई यादें
लगती कुछ उजली उजली
फिर सुरमई हुई यादें
हवा की सरसराहट में
सरगोशी करती हुई यादें
आखों में भरकर फिर
बरसती हुई यादें
खाली होती ज़िन्दगी में
मेला लगाती हुई यादें
कुछ कागजों में ख़त
बनी हुई यादें
कहीं से आती हैं कुछ महकी सी
बहकी हुई यादें
बीते हुए पलों में फिर जीने को
तरसती हुई यादें

**********

आओ बना लें कुछ अच्छी यादें
थोड़ी मीठी कुछ खट्टी यादें
वक्त गुजर जाने पर फिर
चख लेगें ये सारी यादें

***********

Hindi poetry on memories by MrsKhallas-Reflection of moon bringing back memories

May be you know, where are they?

दिल के आइने में तेरे अक्स उभर आये
बंद निगाहों में भी अश्क उभर आये

भरी महफिल में भी तन्हा रहे हम
तेरे हिज़्र के जख्म उभर आये

तेरी यादों से गिरां शाम को
पिये अश्क तो कदम लड़खड़ाये

**********

यूं ही चुपचाप आकर घेर लेती है तुम्हारी याद
दिल में एक अनजान तड़प उठती है हर रात

कभी चांदनी रात में मैं और मेरी तन्हाई
गुमसुम से करते हैं तुम्हारी बात

घेर लेती हैं तुम्हारी बाहें
और खामोश हो जाती है तब हर रात

उन हवाओं से भेजते हैं पैगाम दिले मुज्बर का
आती हैं खुशबू तुम्हारी जिन हवाओं के साथ

 

Poetries-by-Mr-Khallas-and-his-family-and-friends-enforcing-creativity-is-fun-thumbnail poems-by-Mrs-Khallas-thumbnail  Hindi-poetry-on-dishonesty-by-mrs-khallas-thumbnail Hindi-poetry-on-memories-by-Mrs-Khallas-thumbnail hindi-poetry-on-relationship-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poem-on-Pain-by-mrs-khallas-Thumbnail hindi-poem-on-ma-or-mother-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-advice-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-god-or-Khuda-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-life-or-zindgi-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-confusion-by-mrs-khallas-thumbnail

Poetry , Mrs Khallasबेइमानी यादेंरिश्तेदर्दमाँ,  सलाह,  ईश्वर,  जिन्दगी,  उलझन 

 

 

 

Share

बेइमानी | Baimani – Dishonesty

Share

 बेइमानी

Hindi Poetry by Mrs Khallas on Dishonesty - Gossiping as everyday part of dishonesty

But I want to be in her good books!

Find how deeply ingrained is dishonesty in our society. Mrs Khallas presents the brighter side of this great skill

हम सबके दिल में है
थोड़ी सी बेइमानी

जो यह नहीं मानता वह अपने से ही करता है
थोड़ी सी बेइमानी

रोज मर्रा की भागती दौड़ती थकती जिन्दगी को
राहत दे जाती है
थोड़ी सी बेइमानी

बचपन में जवानी में, नानी की कहानी में
बुढ़ापे की भूल भुलैया में
करते हैं हम सभी
थोड़ी सी बेइमानी

कभी रोते को हँसाने के लिये
कभी रूठे को मनाने के लिये
कभी भूखे को खिलाने के लिये
कभी भोजन को बचाने लिये
कभी ना कभी
करते हैं हम सभी
थोड़ी सी बेइमानी

Hindi Poetry by Mrs Khallas on Dishonesty - common practice of using dishonesty to get justice in courts

I swear – Believe me!

कभी रिश्तों को बचाने के लिये
कभी रिश्तों को बढ़ाने के लिये
कभी ज्यादा जीने के लिये
कभी जल्दी मरने के लिये
करते हैं हम सभी
थोड़ी सी बेइमानी

हर देश में हर काल में
हर हाथ में हर भाल  में
जीवन के बुने हुए हर जाल में
किस्मत के हर कमाल में
लिख ली है हम सभी ने
थोड़ी सी बेइमानी

और आखिर में
ईमान की कसम खानी पड़ती है
जब मन में होती है
थोड़ी सी बेइमानी

 

Poetries-by-Mr-Khallas-and-his-family-and-friends-enforcing-creativity-is-fun-thumbnail poems-by-Mrs-Khallas-thumbnail  Hindi-poetry-on-dishonesty-by-mrs-khallas-thumbnail Hindi-poetry-on-memories-by-Mrs-Khallas-thumbnail hindi-poetry-on-relationship-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poem-on-Pain-by-mrs-khallas-Thumbnail hindi-poem-on-ma-or-mother-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-advice-by-mrs-khallas-Thumbnail Hindi-poems-on-god-or-Khuda-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-life-or-zindgi-by-mrs-khallas-thumbnail hindi-poems-on-confusion-by-mrs-khallas-thumbnail

Poetry , Mrs Khallasबेइमानी यादेंरिश्तेदर्दमाँ,  सलाह,  ईश्वर,  जिन्दगी,  उलझन 

 

 

 

Share